लव सेक्स और धोखा के बाद हत्या फिर आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे

लव सेक्स और धोखा के बाद हत्या फिर  आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे

 दुर्गा प्रसाद सेन

बेमेतरा :- शादी से पूर्व मृतिका का पुरूषोत्तम यादव के साथ करीब तीन साल से प्रेम संबंध था. मृतिका और पुरुषोत्तम यादव की शादी अपनी अपनी जात बिरादरी के साथ हो गया था पुरूषोत्तम अपनी शादी की बाद से मृतिका से पीछा छुड़वाना चाहता था मृतिका का पिता शिवनारायण राजपूत होली का त्यौहार होने से मृतिका को उसके ससुराल से पहली बार त्यौहार मनाने के लिए चकवाय लाया  मृतिका अपनी छोटी बहन पूर्णिमा के साथ अपने कमरे मे सोयी थी मृतिका अपने खाट पर नहीं थीं जिसकी खोजबीन किया  इसका लड़का धनेश्वर राजपूत ने इसे बताया कि मृतिका पड़ोसी पुरूषोत्तम यादव के घर कमरा के पटिया में फांसी से लटकी फौत कर गई है फिर यह अपने परिजनों के साथ में पुरूषोत्तम यादव घर कमरा मे जाकर देखा मृतिका एक हरे रंग छीटदार साड़ी के फंदा में लटकी फौत कर गई है मृतिका के मुंह में हरा रंग का साया का कुछ हिस्सा मुंह मे ठुसा है फंदा के पास में ही एक लाल रंग की चुनरी फंदा बंधी है पास में पलंग का बिस्तर मे अस्त व्यस्त है, मृतिका के मौत में पूर्ण संदेह है कि रिपोर्ट पर मर्ग सदर कायम कर जांच में लिया गया।

थाना प्रभारी विपिन रंगारी, चौकी प्रभारी  अन्य स्टाफ के सहायता से उक्त मर्ग की जुमला जांच पर एवं मौका घटना स्थल के बारिकी से निरीक्षण करने पर आरोपी पुरूषोत्तम यादव के द्वारा धारा 302 का अपराध घटित करना पाये जाने से प्रकरण अपराध पंजीबद्ध कर गवाहो के कथन पश्चात आरोपी की पतातलाश करने पर आरोपी कांपापारा स्वागत द्वार के पास नगर पंचायत मारो के पास मिला पुछताछ करने पर आरोपी ने गवाहो के समक्ष घटना कम से अवगत कराया कि मेमोरण्डम कथन मे बताया आरोपी और मृतिका का विगत तीन वर्ष पूर्व से प्रेम संबंध था दोना की शादी जात बिरादरी में हो गया था मृतिका आरोपी के साथ रहना चाहती थी जिद करती थी उसके कारण आरोपी परेशान रहता था मृतिका का पिता होली त्यौहार मनोने मृतिका को लेकर ग्राम चक्रवाय लाया था आरोपी किसी तरह मृतिका से पिछा छोड़ा चाहता था कि घटना की रात को मृतिका आरोपी की कहे अनुसार उसके घर कमरा मे गई थी आरोपी के पारिवारिक रिश्तेदारी में एक्सीडेंट हो जाने पर अपने पिता के साथ भाटापारा चला गया था रात्रि करीब 12.00 घर लौटा तो मृतिका आरोपी की कमरे में आ चुकी थी लेट से आन के कारण और साथ भागने की बातो को लेर विवाद हो गया था फिर आरोपी बोला कि हम दोना साथ नही रह सकते तो साथ मर सकते है हम दोना साथ फांसी लगाकर आत्महत्या कर लेते हैं तो प्रीति आरोपी की बातो मे आकर तैयार हो गई आरोपी अपने घर के कमरा से एक हरा रंग की साड़ी तथा लाल रंग की छुनरी लाकर कमरा की पटीया मे अलग अलग बांध कर फासी का फंदा बनाया फिर भूमिका से बोला की पहले तुम फांसी पर लटको उसके बाद मै फांसी लगाउंगा आरोपी की बातो मे आकर मृमिका हरे रंग की छीटदार साड़ी की फंदा को गले में डाली थी आरोपी पीछे से ढकेल दिया मृतिका छटपटाते चिल्लाने लगी तो आरोपी पास में रखे साया कपड़ा को उसके मुंह मे ठुस दिया और उसके पैरो को पकड़कर खिच दिया जबतक मृतिका मर नही गई उसके बाद आरोपी मृतिका द्वारा लाये एक काले रंग का बैग जिसमे आवश्यक कपड़े और आधार कार्ड और अंकसुची था बैग सहित कमरा मे रखे पलाई के आलमारी के निचे खण्ड में छुपाकर रख दिया था .

समक्षगवाहन आरोपी की निशानदेही मे जप्ती कार्यवाही किया गया आरोपी के विरूद्ध में अब तक की कार्यवाही से आरोपी पुरूषोत्तम यादव को अपराध सदर का घटित करना पाया जाने से विधिवत गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय पेश किया गया.