78 साल पूर्व कोरिया जिले में गिरा था ब्रिटिश एयरक्राफ्ट,54 साल बाद लगी हादसे की जानकारी,जानिए इतिहासिक के अंधेरे में गुम इस रोचक तथ्यों को....

78 साल पूर्व कोरिया जिले में गिरा था ब्रिटिश एयरक्राफ्ट,54 साल बाद लगी हादसे की जानकारी,जानिए इतिहासिक के अंधेरे में गुम इस रोचक तथ्यों को....

कोरिया(छत्तीसगढ़)

कुछ ऐसे इतिहास होते हैं जिनके बारे में लोगों को जानकारी होती और ओ इतिहास किसी कोने में दफन हो कर इतिहास बनकर रह जाते है। बहुत से काम लोगों को जानकारी होगी कि कोरिया जिले के भरतपुर में ब्रिटिश काल की एक बड़ी घटना घटित हुई थी। लेकिन यह घटना जिले के इतिहास में कहीं भी दर्ज नहीं हो पाया। इस इलाके में जंगल में एक ब्रिटिश एयरक्राफ्ट 1944 में दुर्घटना ग्रस्त हुआ था। जिसमें ब्रिटिश सेना के वारंट आफीसरों की मौत हो गई थी। उस क्षेत्र के कुछ बुजुर्ग आज भी घटना के बारे मे बताते हैं।

आज से 78 साल पहले जब भरतपुर विकासखण्ड अविभाजित मध्यप्रदेश हिस्सा हुआ करता था। जोकि सरगुजा जिले में आता था। जनकपुर से लगभग 30 किलोमीटर दूर कुंवारपुर के घनाघोर जंगल में 15 जुलाई 1944 को एक ब्रिटिश एयरक्राफ्ट दुर्घटना होकर गिर गया था। जिसके बाद जंगल में आग लग गई थी।

इस दुर्घटना में ब्रिटिश सेना के दो अफसर एच टटचेल और आर ब्लेयर की मौत हो गई थी। इस घटना की जानकारी 54 बर्ष बाद 1998 में जब ब्रिटिश शासन को हुई तब 14 सितंबर 1999 में ब्रिटिश हाईकमीशन के ग्रुप कैप्टन ई बिज  और मृतकों के परिजन घटना स्थल में पहुंचे थे और लोगों से मिलकर उस घटना को साझा किया। उन्होंने घटना स्थल का मुआयना किया था। उसके बाद 2001 में एक बार फिर उनके परिजन जब कुआरपुर आए तो मृतकों की याद में

कुंवारपुर के स्कूल में एक अतिरिक्त कमरा बनवाकर ब्रिटिश हाई कमीशन ग्रुप के आर ई बिज ने 22 मई 2001 को लोकार्पण किया।इस अवसर पर उन्होंने विद्यार्थियों को किताब कापी पेन वितरण किया था। लेकिन रख रखाव के अभाव में आज वह स्मारक कमरा खंडहरों में तब्दील हो चुका है।

वर्ष 1944 में जिस ब्रिटिश एयरक्राफ्ट का दुर्घटना हुआ था उस जगह पर आज भी उसके कलपुर्जे खोजने से मिल जाते हैं।कई ग्रामीण एयरक्राफ्ट के कलपुर्जों को स्मृति के तौर पर रखे हुए हैं और उन्ही कलपुर्जों को दिखाकर घटना की जानकारी बताते हैं।