कोरोना के अन्य वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है Omicron Variant, डेल्टा के खिलाफ किए गए उपाय होंगे कारगर

डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय आपातकालीन निदेशक डॉ. बाबतंडे ओलोवोकुरे ने कहा कि अब तक पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र के चार देशों और क्षेत्रों - ऑस्ट्रेलिया, हांगकांग, जापान और दक्षिण कोरिया ने ओमीक्रोन वेरिएंट के मामलों की सूचना दी है.

कोरोना के अन्य वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है Omicron Variant, डेल्टा के खिलाफ किए गए उपाय होंगे कारगर

पश्चिमी प्रशांत में विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) के अधिकारियों ने कहा है कि कुछ देशों द्वारा सीमा बंद करने के उपाय को अपनाया जाना कोरोना वायरस के ओमीक्रोन वेरिएंट (New Coronavirus Variant Omicron) से निपटने के लिए समय दे सकता है, लेकिन वैश्विक महामारी से लड़ने की नींव डेल्टा वेरिएंट (Delta Variant) से निपटने के लिए किए गए उपाय और उससे प्राप्त अनुभवों द्वारा रखी जानी चाहिए.

फिलीपीन के मनीला से प्रसारित ऑनलाइन समाचार सम्मेलन में संवाददाताओं से शुक्रवार को उन्होंने कहा कि पश्चिमी प्रशांत के लिए डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय निदेशक डॉ ताकेशी कसई ने कहा कि जहां कुछ देशों में कोविड-19 के मामले बढ़ रहे हैं और कई अन्य देशों में मामले कम आए हैं और मौत में कमी आई है. उन्होंने कहा, ‘इन सबमें अच्छी खबर यह है कि ओमीक्रोन के बारे में हमारे पास कोई भी ऐसी सूचना नहीं है जो बताते हैं कि हमारी प्रतिक्रिया की दिशा बदलने की जरूरत है.’

दूसरे वेरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक ‘ओमीक्रोन’

नए वेरिएंट के बारे में बहुत कुछ अज्ञात है, जिसमें इसके अधिक संक्रामक होने, लोगों को अधिक गंभीर रूप से बीमार बनाने और वैक्सीन का इसपर असर नहीं होने जैसी आशंकाएं भी शामिल हैं. कसई ने कहा कि म्यूटेशन की संख्या के कारण ओमीक्रोन को चिंता का एक वेरिएंट नामित किया गया है. प्रारंभिक जानकारी से पता चला है कि यह वायरस के अन्य वेरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक हो सकता है. उन्होंने कहा कि अधिक जांचों और अवलोकन की आवश्यकता है.

डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय आपातकालीन निदेशक डॉ. बाबतंडे ओलोवोकुरे ने कहा कि अब तक पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र के चार देशों और क्षेत्रों – ऑस्ट्रेलिया, हांगकांग, जापान और दक्षिण कोरिया ने ओमीक्रोन वेरिएंट के मामलों की सूचना दी है. ओलोवोक्योर ने कहा कि यह संख्या बढ़ने की संभावना है क्योंकि विश्व स्तर पर और अधिक मामले खोजे जा रहे हैं.

पिछले 24 घंटों के दौरान इन देशों से आए नए मामले

भारत, सिंगापुर और मलेशिया ने भी पिछले 24 घंटों में अपने पहले मामले दर्ज किए हैं. उन्होंने कहा, ‘देशों को अभी क्या करना चाहिए, इस लिहाज से पिछले कुछ वर्षों में हमारे अनुभव, विशेष रूप से डेल्टा वेरिएंट के जवाब में, हमें एक मार्गदर्शन प्रदान करता है कि हमें क्या करने की आवश्यकता है, साथ ही साथ भविष्य में मामले बढ़ने से अधिक टिकाऊ तरीके से कैसे सामना करना है.’ ओलोवोक्योर ने कहा कि इनमें पूर्ण टीकाकरण कवरेज, सामाजिक दूरी, मास्क पहनना और अन्य उपाय शामिल हैं. फिर स्थानीय संदर्भ के जवाब में उन्हें ठीक किया जा सकता है.