दिव्यांगों को उनकी क्षमता के अनुसार मनरेगा कार्यस्थल में नियोजित करें - जिला पंचायत सीइओ....

दिव्यांगों को उनकी क्षमता के अनुसार मनरेगा कार्यस्थल में नियोजित करें - जिला पंचायत सीइओ....

खड़गंवा और सोनहत जनपद पंचायतों में जिला पंचायत सीइओ ने किया कार्यो का निरीक्षण....
बैकुण्ठपुर - गत दिवस जिला पंचायत सीइओ ने जनपद पंचायत खड़गंवा और सोनहत के विभिन्न ग्राम पंचायतों का निरीक्षण कर प्रगतिरत कार्यों का अवलोकन किया और संबंधित विभागीय अधिकारियों को आवष्यक दिषा निर्देष प्रदान किए। जनपद पंचायत खड़गवां की टीम के साथ जिला सीइओ ने पहले ग्राम पंचायत बंजारीडांड, गढ़तर, सोंस, सैन्दा, अखराडांड और खड़गवां पंचायत के अंतर्गत मनरेगा अन्तर्गत प्रगतिरत कार्य के साथ जल जीवन मिशन अंतर्गत प्रगतिरत कार्य, सामुदायिक शौचालय निर्माण कार्य, ग्राम पंचायतों के स्वास्थ्य केंद्र में पेवर ब्लॉक टाइल्स से बन रहे प्रगतिरत पाथवे के कार्यों का निरीक्षण किया। साथ ही उन्होने धान खरीदी केंद्रों का अवलोकन कर किसानों से उनकी समस्याओं की जानकारी ली। अपने निरीक्षण भ्रमण के अंतर्गत जिला पंचायत सीइओ कुणाल दुदावत ने पहले खड़गंवा विकासखण्ड के एक दर्जन ग्राम पंचायतों का भ्रमण किया इस दौरान उन्होने महात्मा गांधी नरेगा के तहत चल रहे विभिन्न रोजगारमूलक  कार्यस्थलों पर जाकर अकुषल श्रम कार्यों का जायजा लिया। मनरेगा के कार्यस्थलों पर उन्होने श्रमिकों की उपस्थिति, कार्य की माप, मेट पंजी, मस्टररोल सहित अन्य सुविधाओं की जांच की। उन्होने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा के तहत कार्यस्थलों पर अकुशल श्रम के लिए महिलाओं की बहुतायत रहती है इसी तरह से श्रमिक महिलाओं की षत-प्रतिषत ऑनलाइन उपस्थिति भी दर्ज कराई जाए। प्राथमिक उपचार के किट के साथ पेयजल और महिलाओं और श्रमिकों के छोटे बच्चों के लिए शेड की व्यवस्था अनिवार्य रूप से कराई जाए।    
         जिला पंचायत सीइओ ने दिव्यांगों को मनरेगा के  कार्यस्थलों पर पेयजल देने व उनकी क्षमता के अनुसार अन्य हल्के कार्यों में नियोजित करने के निर्देश दिए। जिला पंचायत सीइओ ने कार्यस्थल पर मस्टररोल के साथ ही आनलाइन मोबाइल मानिटरिंग सिस्टम से हाजिरी लगाने की भी जांच कर रोजगार सहायकों को षत प्रतिषत हाजिरी एमएमएस सिस्टम से ही दर्ज करने के निर्देष दिए। जिला पंचायत सीइओ ने जनपद पंचायत खड़गंवा में महात्मा गांधी नरेगा के तहत बनाए जा रहे संसाधनों के अलावा तकनीकी अधिकारियों द्वारा प्रस्तावित निर्माण कार्य जैसे इंटरलॉकिंग पेवर ब्लॉक रोड एवं पुलिया निर्माण के कार्यों के स्थलों का भी अवलोकन किया। निरीक्षण के दौरान उन्होने उपस्थित अमले को प्रस्तावित कार्यों की तकनीकी स्वीकृति हेतु स्थल पर अधिकतम उपयोगिता के अनुसार मानक प्राक्कलन तैयार करने के निर्देष दिए। इसके अतिरिक्त उन्होंने एरिया आफिसर एप्प पर कार्यस्थल में ही अपनी जांच में पाए गए बिंदुओं को दर्ज किया। इनमें सात पंजी की उपलब्धता, मेडिकल किट, आवष्यक छाया व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था, महिला मेट की उपस्थिति जैसे सभी आवश्यक बिंदुओं की जांच कर आनलाइन निरीक्षण दर्ज किया। विदित हो कि महात्मा गांधी नरेगा में पारदर्शिता पूर्ण जांच की व्यवस्था अब एरिया आफिसर एप्प के जरिए कार्यस्थल पर ही आनलाइन दर्ज की जा रही है। इसमें जांचकर्ता अधिकारी अपने मोबाइल से ही सभी आवश्यक बिंदुओं पर जांच कर प्रविष्टि करते हैं। इसकी निगरानी राज्य व केंद्र सरकार के अधिकारियों द्वारा उसी समय कर ली जाती है। कार्यस्थलों पर उन्होने उपस्थित कार्यक्रम अधिकारियों को प्रत्येक मनरेगा कार्य में ज्यादा से ज्यादा महिला श्रमिकों को नियोजित करने के निर्देश दिए। गत दिवस जिला पंचायत सीईओ द्वारा जनपद पंचायत सोनहत के नवनिर्मित गौठनों का अवलोकन किया और आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदान किए। यहां उन्होने महिलाओं के समूह के द्वारा की जा रही आजीविका की विभिन्न गतिविधियों का अवलोकन किया और टमाटर उत्पादन कर रहे समूह से टमाटर खरीद कर प्रोत्साहित किया। गौठान के निरीक्षण के दौरान पाई गई कमियों को दूर करने के लिए उन्होंने सात दिवस की समय सीमा तय करते हुए सभी कार्य एक सप्ताह में अनिवार्यत पूरा करने के निर्देश दिए। गौठानों में पानी की अविलंब  उपलब्धता हेतु सोलर पैनल की स्थापना किये जाने क्रेडा विभाग को तत्काल कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिए। साथ ही गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन एवं गौठनों में 05 - 05 आजीविका गतिविधियों के संचालन हेतु कृषि विभाग, कृषि विज्ञान केंद्र, पशुपालन विभाग एवं राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान के अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए।