शासन के तुगलकी फरमान से किसान परेशान,,बीजेपी किसान मोर्चा ने किया विरोध प्रदर्शन

शासन के तुगलकी फरमान से किसान परेशान,,बीजेपी किसान मोर्चा ने किया विरोध प्रदर्शन

लोरमी -- प्रदेश में करीब 1 माह की भीतर मानसून आने की संभावना है जिसके बाद किसान अपने खेतों की ओर रुख करेंगे जहां वे कड़ी मेहनत कर अन्न उगाते है वहीं किसानों के द्वारा फसल की अच्छी पैदावार हो उसके लिए कई तरह के खाद बीज डालते है। कई किसान रासायनिक पद्धति से खेती करते है जिससे कम खर्च में ज्यादा फसल की पैदावार हो। वहीं मानसून नजदीक आते हिकीसानो के द्वारा सहकारी समितियों के चक्कर लगाए जा रहे है ताकि मानसून आते ही खेतो खाद का छिड़काव किया जा सके लेकिन सहकारी समिति में पर्याप्त खाद की उपलब्धता नही होने होने के कारण किसानों को भटकना पड़ रहा है। वहीं जिले के सभी समितियों में एक नया तुगलकी फरमान आया है जिसमे निर्देश दिए गए है कि सभी किसानों को प्रति एकड़ के हिसाब से एक क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट खाद लेना अनिवार्य है नही लेने पर किसी भी तरह का ऋण नही दिया जाएगा। इसकी जानकारी होते ही भारतीय जनता पार्टी के किसान मोर्चा के द्वारा विभिन्न सहकारी समिति के सामने प्रदर्शन किया गया जहाँ उन्होंने इस तुगलकी फरमान का विरोध किया और सरकार से मांग की है इस आदेश को वापस लिया जाए।

वहीं सहकारी समिति लोरमी के प्रभारी ने बताया कि शासन से निर्देश आया है कि वर्मी कम्पोस्ट खाद सभी किसानों को देना है जो किसान वर्मी कम्पोस्ट नही लेंगे उन्हें किसी भी प्रकार का ऋण नही देना है और यह आदेश लिखित रूप से हमे मिला है। जिसका हम पालन कर रहे है अभी हमारे पास यूरिया आये सुपर फास्फेट खाद उपलब्ध है बाकी के लिए आरओ कट गया है जल्द ही वो भी उपलब्ध हो जाएगा।