गांजा लेकर भाग रही तेज रफ्तार कार ने लोगों को कुचला

गांजा लेकर भाग रही तेज रफ्तार कार ने लोगों को कुचला

पत्थलगांव की ओर से गांजा लेकर अम्बिकापुर की ओर जा रही तेज रफ्तार कार ने आज दोपहर दुर्गा विसर्जन की झांकी देख रहे लोगों को अपनी चपेट में ले लिया। इस हादसे में एक व्यक्ति की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि कई लोग घायल हो गये।

घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार कार क्रमांक एमपी 18 सी 5319 के चालक द्वारा अपने गाड़ी में गांजा भरकर अम्बिकापुर की ओर ले जाया जा रहा था। इस दौरान पत्थलगांव बस स्टैण्ड पर निकली शोभायात्रा व दुर्गा विसर्जन की झांकी देखने के लिये लोगों की भारी भीड़ उमड़ी थी। बताया जा रहा है कि भीड़ के पास पहुंचने के बाद चालक ने कार की रफ्तार बढ़ा दी जिसकी चपेट में कई लोग आ गये। एक व्यक्ति कार के पहियों के नीचे आ गया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी जबकि अन्य चार लोगों को भी कुचलते हुए वह तेज रफ्तार में वहां से भागने लगा।

इस हादसे के बाद घटनास्थल पर मौजूद लोग आगबबूला हो गये तथा कार का पीछा करने लगे। भागने के चक्कर में कार चालक ने बीटीआई चौक के पास बाईक सवार दो लोगों को फिर ठोकर मार दी तथा उनके गिरते ही वह वहां से भी भाग निकला।

शहर से लगभग 15 किलोमीटर दूर सुखरापारा में एक पेड़ से जाकर कार टकरा गयी तब कार रूकी। वहां लोगों ने चालक को गाड़ी से बाहर खींचकर निकाला तथा उसकी खातिरदारी शुरू कर दी। इस बीच पहुंची पुलिस ने बीच-बचाव कर आरोपी को हिरासत में ले लिया।

छावनी में बदला पत्थलगांव

आज इस घटना के बाद पत्थलगांव में आक्रोशित लोगों ने शव को बीच सड़क पर रखकर चक्काजाम शुरू कर दिया घटना के बाद लोगों के आक्रोश को देखते हुए उच्चाधिकारियों ने आस-पास के थाना क्षेत्रों से पुलिस बल बुला लिया था। देखते ही देखते पत्थलगांव छावनी में तब्दील हो गया तथा लोग मृतक के परिजनों को पांच करोड़ सभी घायलों को दस-दस लाख मुआवजा देने की मांग पर अड़ गये। समाचार लिखे जाने तक लोग अपनी बात पर अड़े हुए थे जिससे वहां तनाव की स्थिति बनी हुई थी।

गांजा तस्करों को पुलिसिया संरक्षण देने का आरोप

घटनास्थल पर मौजूद लोगों द्वारा यह कहा जा रहा है कि स्थानीय पुलिस गांजा तस्करों को संरक्षण प्रदान कर उन्हें सुरक्षित रूप से पत्थलगांव से दूसरे इलाकों में भेजती है। आज जिस कार चालक ने घटना को अंजाम दिया वह भी गांजा लेकर जा रहा था। इस हादसे के बाद पुलिस आरोपी को पत्थलगांव थाना ले जाने के बजाय कापू थाना ले गयी इसे लेकर भी कई सवाल लोगों के मन में उठ रहे हैं।