सारंगढ़ पुलिस का मानवीय चेहरा..दो दिन से भूखे-प्यासे बस स्टैंड पर भटक रहे महाराष्ट्र से आए परिवार को मिली ये मदद .....

सारंगढ़ पुलिस का मानवीय चेहरा..दो दिन से भूखे-प्यासे बस स्टैंड पर भटक रहे महाराष्ट्र से आए परिवार को मिली ये  मदद .....

रायगढ़..जिला पुलिस अपराधों पर नियंत्रण रखने व शांति व्यवस्था बनाये रखने के कार्यों के साथ ही जन सेवा के कार्यों में शामिल रहती है। ऐसे ही कार्यों में संलग्न रहकर सारंगढ़ टीआई विवेक पाटले द्वारा मानवता की मिसाल पेश किया गया ।

टीआई सारंगढ़ द्वारा बस स्टैंड पर भूखे-प्यासे भटक रहे महाराष्ट्र के वाशिम जिले के एक परिवार को होटल में भोजन कराकर उनके महाराष्ट्र जाने के लिये ट्रेन टिकट व रास्ते के खर्च के लिये रूपये व फल आदि की व्यवस्था कराये , परिवार सारंगढ़ पुलिस के सहानुभूति, सहयोग व सेवा को कभी न भूलने वाला बताकर रायगढ़ रेल्वे स्टेशन के लिये सारंगढ़ से निकले हैं ।

दरअसल सारंगढ़ बस स्टैंड पर संचालित पुलिस सहायता केन्द्र में कार्यरत  पुलिसकर्मियों ने आज दिनांक 07/मई/2022 के दोपहर करीब 12:30 बजे बस स्टैंड पर दो व्यक्तियों के साथ एक युवती, एक बालिका को परेशान हालत में इधर-उधर भटकते देखे जो बाहर के रहने वाले प्रतीत हुये जिनसे थाना सारंगढ़ के प्रधान आरक्षक टीकाराम खटकर द्वारा पूछताछ किया गया, इनमें एक व्यक्ति अपना नाम अनिल पवार पिता उकण्‍डी पवार उम्र 43  वर्ष निवासी ग्राम सुकली पोस्ट उपलीपेन थाना आन्सिग जिला वाशिम (महाराष्ट्र) का होना बताया था और उसके साथ युवक को बेटा विलास (24 साल), युवती को बेटा बहु रानी पवार (20 साल) व लड़की को बेटी संध्या (14 वर्ष) होना बताया । अनिल पवार बताया कि उसका दूर के रिस्ते का भाई सरिया आसपास कहीं रहता है और बोरवेल में काम करता है जिसने बताया कि जिस बोरवेल्स गाडी में काम करता है वहां दोनों को काम पर लगा और यहीं परिवार की रहने की व्यवस्था भी कर देगा । उसकी बातों में सहमत होकर 3 दिन पहले ट्रेन से रायगढ़ और फिर सरिया गये । सरिया में अपने रिश्तेदार को दो दिन तक काफी पता तलाश किए उसका मोबाइल भी बंद है, जितने पैसे थे व भी खत्म हो गए । अनिल बताया कि 2 दिन तक पूरा परिवार कुछ नहीं खाया था उनकी बातें सुनकर प्रधान आरक्षक टीकाराम खटकर उन्हें पुलिस सहायता केन्द्र में विश्राम करने बोला और थाना प्रभारी सारंगढ़ निरीक्षक विवेक पाटले को अवगत कराया । टीआई विवेक पाटले मौके पर पहुंचे जिनके द्वारा परिवार को होटल में खाना खिलाने की व्यवस्था कराएं और जब परिवारवाले महाराष्ट्र जाना बताएं तो थाना प्रभारी द्वारा उनको टिकट के लिए पैसे देकर रास्ते में खर्च के लिए कुछ रुपए व फल आदि की व्यवस्था कराएं । महाराष्ट्र का यह परिवार पुलिस के इस प्रकार व्यवहार को देखकर अचंभित थे। वे बार-बार टीआई विवेक  पाटले व उनके स्टाफ का धन्यवाद कर रहे थे जिन्हें स्टाफ द्वारा बस बिठाकर रायगढ़ भेजा गया है ।