BIG BREAKING :- अवैध रेत तस्करी बना मासूम की मौत का कारण......

BIG BREAKING :- अवैध रेत तस्करी बना मासूम की मौत का कारण......

बलरामपुर /रामानुजगंज/छत्तीसगढ़

बलरामपुर जिले में लगातार राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कहे जाने वाले पंडो जनजाति के लोगों के मौत के आंकड़े थमने का नाम नहीं ले रहे हैं।बीती शाम लगभग 7:00 बजे 108 वाहन की मदद से सनावल से रेफर लेकर रामानुजगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एक 4 वर्षीय पंडो जनजाति बालिका को इलाज हेतु लाया जा रहा था। लेकिन रास्ते में काफी मात्रा में रेत से लदे लगभग 200 ट्रकों की लाइन लगी थी जिसमें 108 वाहन फस गई।इस दौरान 4 वर्षीय मासूम विशेष जनजाति बालिका की मौत हो गई।इस संबंध में 108 वाहन में तैनात स्टॉप राजेश कुशवाहा ने बताया कि उक्त बालिका की स्थिति काफी क्रिटिकल थी उसे सांस लेने में काफी दिक्कत हो रही थी,लेकिन रास्ते में रेत से लदे सैकड़ों ट्रकों की लाइन लगी थी जिसके कारण हॉस्पिटल तक पहुंचने में काफी देर हो गई और हॉस्पिटल पहुचने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

 ऐसी घटनाओ का इंताजर कर रही है जिला प्रशासन


आपको बता दें कि बलरामपुर जिले के रामचंद्रपुर क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत शिवपुर में ठीक सड़क किनारे खनिज विभाग के द्वारा रेत भंडारण का लीज दिया गया है।और शासन प्रशासन की उदासीनता के कारण एनजीटी के नियमों को ताक पर रखते हुए ठेकेदार के द्वारा सीधे नदी से खनन करते हुए प्रतिदिन सैकड़ों की तादाद में रेत तस्करी का कार्य धड़ल्ले से किया जा रहा है।यही कारण है कि यहां प्रतिदिन काफी मात्रा में ट्रकों की लाइन लगी रहती है यात्री बसों समेत एंबुलेंस जैसे वाहनों को भी जगह नहीं दी जाती है जिसका खामियाजा आज पंडो जनजाति की मासूम बालिका को जान देकर चुकानी पड़ी।
जिला प्रशासन इस ओर थोड़ा भी ध्यान नहीं दे रहा है बल्कि ऐसे अवैध कार्यों को मूक समर्थन प्रदान कर रही है।हम आपको बताना चाहेंगे कि इस विषय पर लगातार मीडिया के द्वारा आवाज उठाया जा रहा है।लेकिन शासन प्रशासन में बैठे लोग कान में तेल डाले बैठे हुए हैं और ऐसी घटनाओं का पुनरावृति हो यह इंतजार कर रहे हैं।