कोरोना की तीसरी लहर के बीच आखिर कोरोना योद्धाओं  ने क्यों लिखा अपनी सुरक्षा स्वयं करें सरकार के भरोसे ना रहें....

कोरोना की तीसरी लहर के बीच आखिर कोरोना योद्धाओं  ने क्यों लिखा अपनी सुरक्षा स्वयं करें सरकार के भरोसे ना रहें....

रायपुर:- इन दिनों सोशल मीडिया में कोरोना योद्धाओं द्वारा एक पर्चा जमकर वायरल किया जा रहा है। इस पर्चे में कुछ ऐसा लिखा है जिसके सुन आप भी दंग रह जाओगे दरसल में पर्चे में प्रदेशवासियों के लिए एक संदेश लिखा है और उस पर्चे में चेतावनी देते हुए कहा है कि


 " कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अपनी सुरक्षा  खुद करे ...सरकार के भरोसे मत रहे" 

क्यों??

"क्योंकि जिन्होंने कोरोना की पहली और दूसरी लहर ने मोर्चा संभाला सरकार ने उन्ही कोरोना योद्धाओं को सरकार ने नौकरी से निकाला"

2 गज दूरी ....मास्क है जरूरी... कोरोना वैक्सीन जरूर लगाएं

क्रांतिकारी कोरोना योद्धा संघ छत्तीसगढ़

यह पर्चा में लिखा हुआ है जिसे सोशल मीडिया में कोरोना योद्धाओं द्वारा जमकर वायरल किया जा रहा है। वही सोशल मीडिया में यह भी कहा जा रहा है कि पहले कोरोना को भगाएंगे फिर सरकार को..

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=4034060693364011&id=100002803612446

दरसल में कोरोना की पहली और दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण दर को कम करने में अपनी अहम भूमिका निभाने वाले अस्थाई कोविड-19 कर्मचारियों को सरकार ने कोरोना संक्रमण दर कम होने पर बाहर का रास्ता दिखाते हुए उन्हें नौकरी से निकाल दिया। जिसके बाद सेवा वृद्धि की मांग को लेकर कोरोना योद्धाओं द्वारा रायपुर के बूढ़ा तालाब धरना स्थल पर 63 दिन तक धरना प्रदर्शन किए प्रदर्शन के 63 वें दिन पर शोक संवेदना प्रदर्शन करने के दौरान पुलिस द्वारा लाठीचार्ज करते हुए उनकी गिरफ्तारी कर उनके धरना स्थल को हटा दिया गया। वहीं सरकार के द्वारा कोरोना योद्धाओं को आगामी भर्ती के लिए 10 अंक बोनस छः माह लगातार काम करने वालों को देने की घोषणा की है।

प्रदेश में इन दिनों लगातार कोरोना संक्रमण दर लगातार बढ़ रहे हैं सरकार भरदे संक्रमण दर को देखते हुए पाबंदियां लगाने भी शुरू कर दी हैं। एक ओर जहां सरकार कोरोना से लड़ने की पर्याप्त संसाधन होने की दावा कर रही हैं तो वहीं दूसरी ओर प्रदेश में अभी भी स्वास्थ्य कर्मियों की कमी बनी हुई है। वही कोरोना योद्धाओं ने यह भी आरोप लगाया है कि भले ही सरकार संसाधन जुटा तो ले क्योंकि ठेकेदारों को लाभ पहुंचाना है लेकिन मानव संसाधन कहां से लाएंगे जिन्होंने कोरोना की पहली और दूसरी लहर पर लोगों का और सरकार का साथ दिया आज उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है यह लड़ाई सिर्फ कोरोना योद्धाओं के नहीं बल्कि प्रदेश की जनता के स्वास्थ्य के लिए है। इस तरीके से कोरोना का संक्रमण दर बढ़ रहा है अगर यह पिछली बार की तरह भयावह हो जाए तो कई लोग अपनों को खो देंगे इसलिए सरकार के पास अभी समय है कि कोरोना योद्धाओं पुनः कार्य पर वापस रखा जाए। क्योंकि पहली और दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण दर कम करने और कोरोना की लड़ाई में अहम भूमिका निभाने का अनुभव रखते हैं और अनुभवी स्वास्थ्य कर्मियों की  टीम मौजूदा हालात में लोगों के स्वास्थ्य के प्रति तैनात होंगे तो कोरोना के संक्रमण को जल्द ही काबू में किया जा सकता है।


झूठे वादे करने वालों से बचकर रहें और अपनी सुरक्षा स्वयं करें


वही क्रांतिकारी कोरोना योद्धा संघ प्रदेश अध्यक्ष हुमेश जायसवाल ने बताया कि कोरोना के इस बढ़ते संक्रमण में प्रदेशवासी अपनी सुरक्षा स्वयं करेंगे सरकार के भरोसे मत रहेंगे ना ही इनके वादों पर क्योंकि सरकार झूठी है इनके वादे भी झूठे हैं क्योंकि सरकार अपने किए गए वादों पर खरा नहीं उतर पा रही है ।इसीलिए अपनी सुरक्षा स्वयं करेंगे सरकार के भरोसे ना रहेंगे साथ ही साथ 2 गज दूरी मास्क जरूरी और कोविड टीकाकरण अवश्य कराने की भी अपील की। उन्होंने यह भी बताया कि सरकार प्रदेश के जनता की स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रही है कोरोना योद्धाओं को नौकरी से निकाला जाना वो भी कोरोना के बढ़ते संक्रमण दौर पर मतलब साफ है कि सरकार लोगों के स्वास्थ्य के प्रति उदासीन है भले ही सरकार संसाधन जुटा रही है लेकिन बगैर मानव संसाधन उन संसाधनों का कोई मतलब नही मशीन रहेगा भवन रहेगा लेकिन उसे चलाने वाले लोग नहीं रहेंगे तो ऐसे में कैसे बेहतर इलाज होगा। अगर सरकार वाकई में लोगों के स्वास्थ्य के प्रति जागरूक है और लोगों की स्वास्थ्य उनकी पहली प्राथमिकता है तो तत्काल बिना देरी किये बगैर प्रदेश के समस्त  अस्थाई कोविड-19 कर्मचारियों को पुनः कार्य पर वापस  रखा जाए।

https://twitter.com/HumeshJaiswal/status/1479986347506995200?t=_osyFjgHaNZrGhBnpE12dg&s=01