कार में कोविड-19 इमरजेंसी लिखकर गांजा का व्यापार करने वाले आरोपी से पुलिस ने खंडहरनुमा मकान से करीब एक करोड़ का गांजा किया जब्त

कार में कोविड-19 इमरजेंसी लिखकर गांजा का व्यापार करने वाले आरोपी से पुलिस ने खंडहरनुमा मकान से करीब एक करोड़ का गांजा किया जब्त

बिलासपुर। जिले के तखतपुर  क्षेत्र में अब तक का सबसे बड़े गांजे की तस्करी का मामला उजागर हुआ है। कार में कोविड-19 इमरजेंसी लिखकर गांजा का व्यापार करने वाले आरोपी गिरफ्तार किया गया है। तखतपुर पुलिस ने खंडहरनुमा मकान से 900 किलो करीब एक करोड़ का गांजा जब्त किया है।

एसपी प्रशांत अग्रवाल के निर्देश पर एसडीओपी श्रीमती रश्मित कौर चावला के मार्गदर्शन पर थाना प्रभारी मोहन भारद्वाज व टीम ने स्विफ्ट कार जिसमें स्काई  हॉस्पिटल लिखा था, उसमें गांजा की तस्करी की जा रही है की सूचना पर वहीं शुक्रवार की देर रात देवरी खमरिया में एक स्विफ्ट कार सीजी 11एम 1778 को  रोका, तब वाहन ने बिलासपुर मोपका निवासी हरीश साहू पिता संतराम साहू 41 वर्ष को गिरफ्तार किया और उसे हिरासत में लेकर जब पूछताछ की गई। तब सुबह तखतपुर पॉलिटेक्निक कॉलेज के पास ग्राम खपरी के खण्डहरनुमा में मकान जिसे आरोपी ने 2 वर्ष पहले लिया था। उस मकान में करीब एक करोड़ का गांजा रखा हुआ था। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए गांजा जब्त कर लिया है। आरोपी स्विफ्ट कार में घूमता था और कार में स्काई हॉस्पिटल बिलासपुर इमरजेंसी कोविड-19 सेवा लेकर घूमता था और गांजे की तस्करी करता था पुलिस ने बताया कि मोपका के इसके घर में होम्योपैथी चिकित्सा का बोर्ड लगा हुआ मिला। आरोपी ने कड़ाई के साथ पूछताछ पर जुर्म कबूल किया। एसडीओपी श्रीमती रश्मीत कौर चावला और थाना प्रभारी मोहन भारद्वाज ने बताया कि आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।