यूक्रेन का दावा- युद्ध में रूस कर रहा प्रतिबंधित बम थर्मोबैरिक का इस्तेमाल, तड़प-तड़पकर हो रही लोगों की मौत

अजोवस्टल, मारियुपोल की यही वो इकलौती जगह है जहां यूक्रेनी सैनिकों ने सरेंडर नहीं किया है. हथियार नहीं डाले और मारियुपोल पर रूस के पूर्व विजय का रथ यहीं आकर लटक गया.

यूक्रेन का दावा- युद्ध में रूस कर रहा प्रतिबंधित बम थर्मोबैरिक का इस्तेमाल, तड़प-तड़पकर हो रही लोगों की मौत
रूस ने अजोवस्टल में किया थर्मोबैरिक बम से हमला

Russia Ukraine War: जंग के बीच यूक्रेन ने बड़ा दावा किया है. यूक्रेन का कहना है कि इस युद्ध में रूस प्रतिबंधित बम (Thermobaric Bomb) का इस्तेमाल कर रहा है, जिससे तड़प-तड़पकर हो रही है लोगों की मौत हो रही है. बता दें कि अजोवस्टल (Azovstal), मारियुपोल की यही वो इकलौती जगह है जहां यूक्रेनी सैनिकों ने सरेंडर नहीं किया है. हथियार नहीं डाले और मारियुपोल पर रूस के पूर्व विजय का रथ यहीं आकर लटक गया. रूसी सैनिकों ने यूक्रेन हर रिहायशी इलाकों को तबाह कर दिया लेकिन अजोव का युद्ध रूस की सेना नहीं जीत सकी थी. मगर अब यहां भी रूस जीत का झंडा फहराने की स्थिति में दिख रहा है. मारियुपोल के मेयर ने कहा है कि यूक्रेनी सैनिकों से कोई संपर्क नहीं हो रहा है.

मेयर का कहना है कि अजोवस्टल प्लांट पर थर्मोबैरिक रॉकेट से अटैक का वीडियो सामने आया है. बता दें कि प्लांट से लोगों को निकालने के दोनों देशों के बीच सीजफायर का ऐलान किया गया था लेकिन एक दिन पहले ही रूस की तरफ से सीजफायर का उल्लंघन का आरोप लगाकर प्लांट पर गोलीबारी शुरू कर दी गई थी. बमबारी के बाद अजोव प्लांट काले धुंए से घिर गया और फिर अजोवस्टल में मोर्चा में संभालने वाले सौनिकों का रेडियो संदेश भी आना बंद हो गया. बता दें कि मारियुपोल के अजोवस्टल स्टील प्लांट में गुरुवार को भारी गोलाबारी हुई. रूसी सैनिकों ने शहर में प्रतिरोध के आखिरी ठिकाने को अपने कब्जे में लेने का भरपूर प्रयास किया और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण बंदरगाह पर पूरा नियंत्रण बना लिया.

क्या प्लांट में कोई जिंदा नहीं बचा?

अजोवस्टल प्लांट से नागरिकों को निकालने का काम जारी था. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सिर्फ 100 लोगों को ही प्लांट से रेस्क्यू किया जा सका था. रूस ने रेस्क्यू के दौरान यूक्रेन की सेना पर फायरिंग का आरोप लगाया. मारियुपोल के मेयर को सैनिकों के साथ नागरिकों की मौत का अंदेशा है. प्लांट परिसर में बंकर में यूक्रेन के सैकड़ों सैनिक छिपे हुए हैं, जिनमें से कई घायल हैं. सैनिकों के साथ कुछ आम नागरिक भी हैं. यूक्रेन की अजोव रेजीमेंट के डिप्टी कमांडर कैप्टन स्वियातोस्लाव पालमार ने गुरुवार को प्लांट के बंकर से जारी एक वीडियो बयान में कहा कि घायल सैनिक उचित इलाज के अभाव में तड़प-तड़प कर मर रहे हैं. उन्होंने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से भी मदद का अनुरोध किया है ताकि घायलों को बंकर से निकाला जा सके. रूस ने कहा है कि उसके सैनिक इस्पात संयंत्र के बंकर में नहीं घुसे हैं लेकिन पालमार ने कहा कि रूसी सैनिक संयंत्र में गोलाबारी कर रहे हैं.