Russia Ukraine War: यूक्रेन पर दाग रहा 1960 की जहाज-रोधी हैवी मिसाइल , एक से एक घातक हथियारों का इस्तेमाल कर रहा रूस

Russia Weapons in Ukriane War: यूक्रेन ने रूस पर आरोप लगाया है कि वह युद्ध में अधिक घातक हथियारों का इस्तेमाल कर रहा है. इनमें जहाज रोधी हैवी मिसाइल से लेकर आग लगाने वाले हथियार तक शामिल हैं.

Russia Ukraine War: यूक्रेन पर दाग रहा 1960 की जहाज-रोधी हैवी मिसाइल , एक से एक घातक हथियारों का इस्तेमाल कर रहा रूस
यूक्रेन पर हमले के लिए घातक हथियारों का इस्तेमाल कर रहा रूस

यूक्रेन और ब्रिटेन के अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि पूर्वी यूक्रेन (Russia Ukraine War) पर कब्जा करने के प्रयास में रूस की सेना बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाने के लिए ज्यादा घातक हथियारों का इस्तेमाल कर रही है. वहीं भीषण लड़ाई की वजह से दोनों पक्षों के पास सैन्य साजो सामान भी घटते जा रहे हैं. ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि रूसी सैनिक यूक्रेन में 1960 के दशक की जहाज-रोधी भारी मिसाइल दाग रहे हैं. केएच-22 मिसाइल (KH-22 Missile) को मुख्य रूप से परमाणु हथियार का इस्तेमाल करके विमान वाहक जहाज को नष्ट करने के लिए डिजाइन किया गया था.

मंत्रालय ने कहा कि जब पारंपरिक हथियारों के साथ जमीनी हमलों में ऐसी मिसाइल का इस्तेमाल किया जाता है, तो हताहतों की संख्या बढ़ती है और काफी नुकसान होता है. ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि रूस शायद 6.1 टन भार वाली जहाज रोधी मिसाइल का इस्तेमाल कर रहा है क्योंकि उसके पास अधिक सटीक आधुनिक मिसाइल की कमी है. मंत्रालय ने यह नहीं बताया कि रूस ने यूक्रेन में किन-किन जगहों पर इन हथियारों का इस्तेमाल किया है. यूक्रेन के सैन्य खुफिया विभाग के उप प्रमुख वादिम स्किबित्सकी ने द गार्जियन अखबार को बताया कि यूक्रेन एक दिन में तोप के 5,000 से 6,000 गोलों का इस्तेमाल कर रहा है और अब वह पश्चिमी देशों से मिलने वाले हथियारों पर निर्भर है.

आग लगाने वाले हथियारों का किया इस्तेमास

लुहांस्क के गवर्नर सेरही हैदई ने रूस पर यूक्रेन के पूर्वी क्षेत्र के वरुबिवका गांव में आग लगाने वाले हथियारों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है. हैदई ने कहा कि युद्ध में इस तरह के हथियारों का इस्तेमाल होता रहा है लेकिन इससे भारी संख्या में नागरिक हताहत हुए हैं. हैदई ने शनिवार को सोशल मीडिया टेलीग्राम पर लिखा, पोपासन्यांसका जिले के वरुबिवका गांव में हताहत हुए लोगों के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है. उन्होंने यह भी कहा कि रूसी सेना सिविएरोदोनेत्सक पर लगातार हमले कर रही है और उसने रेलवे डिपो, ईंट भट्ठों को तबाह कर दिया. लिसिचांस्क में कांच के कारखाने सहित महत्वपूर्ण औद्योगिक इकाईयों पर भी बमबारी हुई है.

यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन ने यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदिमीर जेलेंस्की से मुलाकात के लिए शनिवार को कीव का दौरा किया. जेलेंस्की ने यूरोपीय संघ (ईयू) से रूस के खिलाफ कुछ और कड़े प्रतिबंध लगाने का आग्रह किया. यूरोपीय संघ (ईयू) की कार्यकारी इकाई यूरोपीय आयोग ईयू की सदस्यता के लिए यूक्रेन के अनुरोध पर अगले सप्ताह विचार-विमर्श करेगा. रूस के हमले के बाद से लेयेन का यूक्रेन का यह दूसरा दौरा है. जेलेंस्की ने कहा कि यूक्रेन ईयू की सदस्यता पाने के लिए सब कुछ करेगा. लेयेन ने रूस के बर्बर और खौफनाक हमलों में यूक्रेन द्वारा दिखाए गए प्रतिरोध की सराहना की.

इस बीच, रूस ने यूक्रेन के जापोरिजिया क्षेत्र में स्थानीय अनाज खरीदने के लिए एक कंपनी स्थापित की है. यूक्रेन और पश्चिमी देश रूस पर अनाज की आपूर्ति में बाधा डालने का आरोप लगाते रहे हैं. यूक्रेन के अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि युद्ध शुरू होने के बाद से करीब 800 बच्चे मारे गए या घायल हुए. यूक्रेन के महाअभियोजक कार्यालय के एक बयान के मुताबिक हमलों में कम से कम 287 बच्चों की मौत हो गई जबकि 492 से अधिक घायल हो गए.