श्रीनगर में पुलिस टीम पर आतंकी हमला, जवाबी कार्रवाई में एक आतंकवादी ढेर

श्रीनगर में पुलिस टीम पर आतंकी हमला, जवाबी कार्रवाई में एक आतंकवादी ढेर

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के श्रीनगर (Srinagar) में एक बार फिर आतंकी हमले की खबर सामने आई है. इस बार हमला श्रीनगर पुलिस टीम पर किया गया है. बताया जा रहा है कि हमले के बाद पुलिस की ओर से भी जवाबी कार्रवाई की गई जिसमें एक आतंकी ढेर हो गया है. हमला श्रीनगर के रामबाग में हुआ है. पुलिस कार्रवाई में एक आतंकी मार गिराया गया है हालांकि दूसरा आतंकी भागने में कामयाब रहा. आतंकी के पास से हथियार और गोला बारूद बरामद किया गया है.

जानकारी के मुताबिक आतंकियों ने अचानक पुलिस पर हमला कर दिया जिसके बाद दोनों ओर से मुठभेड़ शुरू हो गई. मारे गए आतंकवादी के पास से मिले पहचान पत्र के अनुसार, उसकी पहचान प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े ट्रेन्ज़ शोपियां के आकिब बशीर कुमार के रूप में हुई है.

पिछले कुछ दिनों से जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले बढ़ गए हैं. 2 दिनों में यहां पांच लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया. श्रीनगर के ईदगाह इलाके में गुरुवार को आतंकवादियों ने एक महिला प्रिंसिपल समेत सरकारी स्कूल के दो टीचर्स की गोली मार कर हत्या कर दी. जबकि कई नागरिक इस घटना में घायल हो गए. श्रीनगर (Srinagar) के एक स्कूल के अंदर आतंकवादियों (Terrorists) द्वारा मारी गईं सुपिंदर कौर (Supinder Kaur) के अंतिम संस्कार में आज सिख समुदाय के लोग शामिल हुए.

पिछले 5 दिनों में 7 नागरिकों की हत्या

सुपिंदर कौर अलोची बाग श्रीनगर निवासी आरपी सिंह की पत्नी थीं और एक सरकारी स्कूल की प्रिंसिपल थीं. पिछले पांच दिनों में घाटी में सात नागरिकों की हत्या हुई है, जिनमें से 6 की हत्या शहर में हुई है. मृतकों में से चार लोग अल्पसंख्यक समुदाय से थे. गवर्नमेंट ब्वॉयज सेकेंडरी स्कूल (ईदगाह) की प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और टीचर दीपक चंद की सुबह करीब सवा 11 बजे गोली मारकर हत्या कर दी गई. उस समय स्कूल में कोई छात्र मौजूद नहीं था.

इस घटना की खबर फैलते ही शहर और घाटी के कुछ हिस्सों में एक तरह का भय व्याप्त हो जाने के बीच जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा कि कश्मीर में नागरिकों, खासकर अल्पसंख्यकों की लक्षित हत्या का मकसद भय का माहौल बनाना और सदियों पुराने सांप्रदायिक सद्भाव को नुकसान पहुंचाना है. सिंह ने कहा कि यह दरिंदगी, वहशत और दहशत का मेल है. इस स्कूल का परिसर काफी फैला हुआ है और बड़े मैदान तथा तीन मंजिला इमारतें हैं लेकिन कोई सीसीटीवी नहीं है.