अनुभवी नर्सिंग के हजारों छात्र-छात्राओं का भविष्य अंधकार में ये है वजह ... न्यायालय के आदेश के बावजूद भी हो रहा...

अनुभवी नर्सिंग  के हजारों छात्र-छात्राओं का भविष्य अंधकार में ये है वजह ... न्यायालय के आदेश के बावजूद भी हो रहा...

रायपुर :- छत्तीसगढ़ नर्सिंग संगठन के द्वारा उच्च न्यायालय में अपनी मांग को लेकर गुहार लगाई गई जिसमें एनआरएचएम के माध्यम से हो रही मन मानी जिसमे नए फ्रेशर एवं नौसिखियो को पात्र लेकर कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर बनाकर  स्वास्थ्य के खिलाफ आम जनता को  भयभीत किया जा रहा एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मे कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर बनाकर भेजा जाएगा और जो पुराने अनुभवी नर्सिंग के छात्र है तथा जिनके पास मल्टीस्पेशल्टी हॉस्पिटल का अनुभव व कोविड के दौरान जिन नर्सिंग स्टाफ लोगों ने अपना इतना बड़ा अहम योगदान दिया लेकिन अब उनको कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर के पद के लिए कोई प्राथमिकता नहीं दिया जा रहा जो इंटीग्रेटेड कोर्स सरकार निकाली है उसको अभी छत्तीसगढ़ में लागू हुए मुश्किल से साल भर भी नहीं हुआ है और उसके लाभान्वित नर्सिंग स्टूडेंट्स मुश्किल से छत्तीसगढ़ मे बहुत ही कम संख्या में है उनको इस पद में प्राथमिकता दिया जा रहा है  ।

            वही नर्सिंग संगठन पदाधिकारी आज  स्वास्थ्य मंत्री जी के पास जाकर कोर्ट का आदेश को दिखाया और उनसे आश्वासन लिया एवं अपनी मांगों को लेकर गुहार लगाया उनका कहना है की जरूर कुछ ना कुछ करेगें ।


       

नर्सिंग संगठन के पदाधिकारियों का कहना है कि हमारे द्वारा कोर्ट में जाकर पिटीसन लगवाया लगाया जिसमें हमारे वकील  मयंक कुमार के पास जाकर उनसे हमारी दर्द को बताया तो उन्होंने हमारे पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश राजस्थान पटना कर्नाटक इन सभी राज्यों में सी एच ओ की भर्ती में जीएनएम और बीएससी नर्सिंग को लिया जा रहा ठीक उसी प्रकार से छत्तीसगढ़ में भी भर्ती प्रक्रिया लेने के लिए हमने कोर्ट में याचिका दायर करवाया।


कोर्ट के आदेशानुसार उसमें स्पष्ट लिखा हुआ है जब तक हमारी जो मांगे हैं वह पूरी नहीं होती तब तक इस सी एच ओ भर्ती प्रक्रिया चलेगी लेकिन किसी को भी पदस्थ नही किया जायेगा।

 जीएनएम हो या बीएससी नर्सिंग दोनो को प्राथमिकता दे तथा जिन्होंने कोरोना काल में काम किया उनको 10 नंबर बोनस के साथ इस पद के लिए प्राथमिकता मिले    ।
            
 इंटीग्रेटेड कोर्स के नाम पर छत्तीसगढ़ में अभी भी बहुत सारे नर्सिंग इंस्टिट्यूट को पता ही नहीं लेकिन वहां से 2020 से 2021 के पास आउट स्टूडेंट को इंटीग्रेटेड कोर्स का सर्टिफिकेट दिया जा रहा  उसी के माध्यम से सभी पात्र हो रहे ।

ये कोर्स को आए अभी साल भर हुआ नही लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार इसी के माध्यम से इतने बड़े पैमाने पर 2700 पद की भर्ती कर रही जबकि सारे पड़ोसी राज्य में यह कोई नियम लागू नहीं है ।

जीएनएम हो या बीएससी नर्सिंग दोनो को प्राथमिकता देते हुए पिछले भर्ती प्रक्रिया में जो हुआ था बीएससी नर्सिंग जीएनएम दोनो को मेरिट सूची जारी करके लिया गया था उसी माध्यम से अभी भी वही नियम के तहत लिया जाए ।