भगवान राम की जन्म स्थली अयोध्या में हुआ घिनौना अपराध पुजारी ही निकला हवस का पुजारी

भगवान राम की जन्म स्थली अयोध्या में हुआ घिनौना अपराध पुजारी ही निकला हवस का पुजारी

अयोध्या. एक युवती को प्रेम रोग से निजात दिलाने के लिए उसके घर वाले महंत के पास ले गए थे. परिजन ने बेटी को झांड-फूंक करने के लिए महंत को सौंप दिया, लेकिन जो प्रेम रोग का इलाज कर रहा था वह खुद प्रेम रोगी निकला. महंत ने झांड़-फूंक के बहाने युवती को कमरे में ले जाकर दुष्कर्म किया. दुष्कर्म करने के आरोपी महंत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है. पुलिस ने तत्काल महंत हनुमान दास को गिरफ्तार कर लिया है.

बता दें कि आरोपी महंत पर पीड़िता की तहरीर पर दुष्कर्म के अलावा एससी-एसटी एक्ट, झाड़-फूंक के नाम पर धन लेने सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है. पीड़ित युवती अयोध्या जिले के बीकापुर थाना क्षेत्र की रहने वाली है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वह दिल्ली के एक लड़के से प्रेम करती थी, जबकि उसके घर वाले यह नहीं चाहते थे. लड़की को इस प्रेम बंधन से मुक्त कराने के लिए अयोध्या में पूजा-पाठ कराने आए थे. आरोप है कि महंत ने पूजा-पाठ के बहाने दुराचार किया. पीड़िता के अनुसार बीते बुधवार की शाम पांच बजे उसे बुलाया गया और रोज की तरह माता-पिता को भेज दिया गया.

युवती से कमरे में किया दुष्कर्म

पीड़िता का आरोप है कि अकेला पाकर महंत ने उसे कमरे में बंद कर पूजा-पाठ करने के बहाने से रेप किया. पीड़िता के अनुसार वह जब घर पहुंची तो गाड़ी से उतरते ही बेहोश हो गई, फिर परिवार को घटना की जानकारी दी. इस मामले में पुलिस ने जानकारी होते ही जांच शुरू कर दी. आरोपी महंत हनुमान दास निवासी सियाबल्लभ कुंज नयाघाट को तत्काल हिरासत में ले लिया गया. पुलिस ने करीब 24 घंटे तक पूछताछ व जांच पड़ताल के बाद शुक्रवार को महंत के खिलाफ दुष्कर्म सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया.

महंत के पास कई राज्यों से आते हैं लोग

बता दें कि पीड़िता दलित है. इस कारण महंत पर एससी एसटी एक्ट के तहत भी मुकदमा दर्ज हुआ है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सियावल्लभ कुंज के महंत हनुमान दास शादीशुदा और तीन बेटियों का पिता है. नयाघाट के मंदिर में ही उसका परिवार भी रहता है. इस घटना के समय परिवार के लोग मंदिर के दूसरे हिस्से में थे. इस मंदिर में झाड़-फूंक का काम करीब 20 साल से चल रहा है. इस मंदिर के भक्त यूपी सहित देश के कई राज्यों में हैं.