उमरेली की मां सतबहिनी मंदिर दूधिया रोशनी में अलौकिक छटा बिखेर रही...

उमरेली की मां सतबहिनी मंदिर दूधिया रोशनी में अलौकिक छटा बिखेर रही...

उमरेली:- शारदीय नवरात्रि पर कहुवा वासिनी मां सतबहिनी मंदिर में भक्तों का जमावड़ा देखा जा सकता हैं तो वही नवरात्रि की द्वितीय संध्या के समय रंग बिरंगी रौशनी में मंदिर अलौकिक सौंदर्य का एहसास दिला रही है।
       कोरबा जांजगीर-चांपा जिले की सीमाओं पर बसा ग्राम उमरेली के बूढ़ीनाला मैं बरसों से ग्रामीण जन अपनी मन्नत ओं के साथ मां सतबहिनी दाईं की पूजन अर्चना वर्ष के 12 माह किया जाता है किंतु वर्ष में होने वाले दो प्रमुख नवरात्रि यों को ग्रामीण जन भव्य आयोजन के साथ मनाते हैं। मां सतबहिनी दाई के दर्शन के लिए पूरी नवरात्रि भक्तों का भीड़ लगा रहता है। जहां संध्या काल में आरती के बाद भजन जस गान आदि समिति द्वारा आयोजित की जाती है। माता की सेवा के लिए जसगीत गायक पूरी नवरात्र में मंदिर के प्रांगण में उपस्थित रहते हैं जहां भक्ति भजन के साथ नवरात्रि पूरी तरह से भक्तिमय माहौल में तब्दील हो जाता है।
      कहुवा वासिनी मां सतबहिनी मंदिर के मुख्य संरक्षक डिशन कर्ष ने बताया कि यह मंदिर बूढ़ी नाला के किनारे स्थित है और यहां 12 माह माता की सेवा की जाती है साथ ही वर्ष में होने वाले दोनों नवरात्र पर पूरी भक्ति के साथ माता की सेवा और चरम पर होती है। माता की पूजन हमारे कई पीढ़ी करते आ रहे हैं और बीते कुछ वर्षों में इस स्थान पर मंदिर की स्थापना कर लोग अधिक संख्या में माता के दर्शन के लिए पहुंच रहे हैं।