गांधी जी की 152 वी जयंती पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया

गांधी जी की 152 वी जयंती पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया

कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा  आयोजित जन शिक्षण संस्थान सरगुजा मे महात्मा गांधी जी की 152 वीं जयन्ती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमो का आयोजन किया गया। संस्थान के सभागार मे सभी छात्र-छात्राओं ने निबंध प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता एवं चित्रकला प्रतियोगिता मे बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया l  जिसमें कार्यक्रम का आयोजन एवं अध्यक्षता जन शिक्षण संस्थान के निदेशक एम.सिद्दीकी ने किया। अपने उद्बोधन मे एम.सिद्दीकी ने बताया कि बापू ने देश को अंग्रेजों की गुलामी से आज़ादी दिलाई। उन्होंने लोगों को सत्य और अहिंसा का पाठ पढ़ाते हुए अंग्रेजों की गुलामी से मुक्ति दिलाई। उनके अहिंसा के सिद्धांत को पूरी दुनिया ने सलाम किया। यही वजह है कि पूरा विश्व 2 अक्तूबर के दिन को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के तौर पर भी मनाता है।

इसी कड़ी में विवेक सिंह ने कहा कि गांधीजी ने भारतीय समाज में व्याप्त छुआछूत जैसी बुराइयों के प्रति लगातार आवाज उठाई। वो चाहते थे कि ऐसा समाज बने जिसमें सभी लोगों को बराबरी का दर्जा हासिल हो क्योंकि सभी को एक ही ईश्वर ने बनाया है। उनमें भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। नारी सशक्तीकरण के लिए भी वह हमेशा प्रयासरत रहे। विद्यार्थियों ने अपने विचार को भाषण के रूप में सभी से साझा भी किया। इसके पश्चात जन शिक्षण संस्थान निदेशक के द्वारा संस्थान में चलने वाली विभिन्न गतिविधियों के बारे में जानकारी दी गई। जिसमें महात्मा गांधी की जीवन परिचय पर भाषण, निबन्ध, चित्रकला, रंगोली,  मेहंदी एवं  दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया । उसके पश्चात कार्यक्रम का समापन में आभार प्रदर्शन विवेक सिंह के द्वारा गिया गया। इस कार्यक्रम में रमेश कुमार,  स्नेहलता ठाकुर, अंजुमाला तिर्की, वन्दना मानिकपुरी, राकेश रोशन खाखा, जागेश्वर राजवाड़े उपस्थित रहे।