क्या टी एस सिंहदेव होंगे मुख्यमंत्री या भुपेश बघेल रहगें या फिर और कुछ ...जाने मुख्यमंत्री का बदलाव या राजनीतिक दांव...

क्या टी एस सिंहदेव होंगे मुख्यमंत्री या भुपेश बघेल रहगें या फिर और कुछ ...जाने मुख्यमंत्री का बदलाव या राजनीतिक दांव...

रायपुर:- छत्तीसगढ़ में पिछले कई महीनों से कौन बनेगा छत्तीसगढ़ का सीएम यह बात का चर्चा बना हुआ है, जब जब छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव दिल्ली जाएंगे चाहे वह अपनी निजी काम हो या फिर संगठन से जुड़े काम उसके बाद यह बात सुर्खियों में आ जाता है यह कौन बनेगा छत्तीसगढ़ का नया सीएम . और इन सबके बीच छत्तीसगढ़ के मूलभूत मुद्दे मानो थम सी जाती है क्योंकि मीडिया कौन बनेगा सीएम मामले पर तवज्जो देना शुरू कर देते जिस प्रकार से पंजाब में सीएम का चेहरा बदला उसके बाद से छत्तीसगढ़ में भी कयास लगाए जा रहे थे कि ढाई ढाई साल के फार्मूले पर सीएम का चेहरा बदलेगा हालांकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल स्पष्ट कहा है कि छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ रहेगा ना कि पंजाब, छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ने भी यह स्पष्ट कह दिया कि वर्तमान के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ के मुखिया होंगे.


पिछले माह में उड़ी थी यह अफवाहें

एक राष्ट्रीय न्यूज़ चैनल ने खबर चलाई जिसमें कहा गया था कि आने वाले सप्ताह भर के भीतर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बदलेंगे नए मुख्यमंत्री की ताजपोशी होगी लेकिन आपको बता दें कि सीएम का चेहरा बदलना उस खिचड़ी के समान है जिसे बीरबल ने पकाई थी. हालांकि प्रदेश में कब कौन किसका चेहरा बदल जाए यह कहा नहीं जा सकता क्योंकि राजनीति है साहब यहां कुछ भी हो सकता है, लेकिन जिस राष्ट्रीय न्यूज़ चैनल ने पिछले बार यह खबर चलाई थी आज वही  खबर को फिर से दोहरा रहे हैं हालांकि इस बात पर कितनी सत्यता है यह तो भविष्य के गर्भ में है, लेकिन जैसे ही छत्तीसगढ़ में सियासी मुद्दे की बात आती है तो छत्तीसगढ़ के मूलभूत मुद्दे दब जाती हैं जब भी प्रदेश में कोई बड़ा मुद्दा गरमाया रहता है, उसी दौरान सीएम बदलने की बात भी सामने आती है मानो ऐसा लगता है जैसे मामले को दबाने के लिए सीएम चेहरा बदलने वाली बात लाकर लोगों का उन मुद्दे से ध्यान भटका दिया जाता है.


मुख्यमंत्री का बदलाव या राजनीतिक दांव

अगर वर्तमान के मुख्यमंत्री को हटाकर नया चेहरा लाया जाएगा तो समाज की बात है नए मुख्यमंत्री अपने हिसाब से पूरी टीम को बनाएंगे जिसमें मंत्रिमंडल से लेकर आईएएस आईपीएस अधिकारियों का बड़ा फेरबदल होगा और कामकाज को समझने में भी समय लगेगा इससे छत्तीसगढ़ के कामकाज में बड़ा असर पड़ेगा. जिस प्रदेश में कांग्रेस ने एकतरफा जीत हासिल कर 15 साल के बाद सत्ता पर काबिज हुई लेकिन ढाई ढाई साल के सीएम फार्मूले ने यह साबित कर दिया कि कांग्रेस के भीतर आज भी अंतर कलह बनी हुई है कहीं ना कहीं यहां पर जनप्रतिनिधि अपने स्वार्थ के लिए प्रदेश की जनता की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं .अगर सीएम का चेहरा बदलता है तो स्वभाविक सी बात है पूरे सिस्टम में बदलाव होगा और पूरे सिस्टम में बदलाव होने की वजह से आने वाले कुछ माह तक कामकाज ठप रहेगा जिससे लोग काफी प्रभावित होंगे. सबसे बड़ी विडंबना की बात ही है किस प्रदेश की जनता ने कांग्रेस को चुना वहां के फैसले छत्तीसगढ़िया सरकार नहीं  बल्कि ऊपर बैठे आलाकमान छत्तीसगढ़ के जनता के फैसला ले रहे.


अब आने वाले समय ही बताएगा कि किसका कद बढ़ेगा किसका कब घटेगा, क्या टीएस सिंहदेव होंगे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री या फिर भूपेश बघेल ही बने रहेंगे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री.