आधारशिला विद्या मंदिर में आनंद मेला का आयोजन, फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में दिखी बच्चों दिखी प्रतिभा

आधारशिला विद्या मंदिर में आनंद मेला का आयोजन,  फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में दिखी बच्चों दिखी प्रतिभा

आधारशिला विद्या मंदिर के परिसर मे बाल दिवस के अवसर पर बच्चों के लिए आनंद मेला का आयोजन किया गया। जिसमें छात्रों के द्वारा तरह-तरह के व्यंजनों के स्टाल लगाए। इसमें गोलगप्पे, चटपटी चाट, बाबा जी की पावभाजी, स्वीट कॉर्न, दाबेली, सेंडविच, केक आदि  विभिन्न प्रकार के व्यंजन उपलब्ध थे।

इस कार्यक्रम मे मुख्य अतिथि के रूप में आधारशिला विद्या मंदिर के फाउंडर एवं राज्य पर्यटन अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव  विशिष्ठ अतिथि क्रेडाई कोषाध्यक्ष प्रणब राय, कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता  अभय नारायण राय एवं वरिष्ठ पत्रकार शैलेष पाठक सहित विद्यालय के चेयरमैन डॉ.अजय श्रीवास्तव, श्रीमती रश्मि श्रीवास्तव, श्रीमती नीतू श्रीवास्तव, डॉयरेक्टर एस.के. जानास्वामी, प्राचार्या जी.आर. मधुलिका, मनीष श्रीवास्तव की उपस्थिति ने कार्यक्रम में चार चाँद लगा दिए। मुख्य अतिथि सहित सभी लोगों ने बच्चों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए शुभकामनाएं दी।

आयोजन में एक ओर नन्हें - नन्हें बच्चे ही दुकानदारी संभालें हुए हैं तो दूसरी ओर नन्हे मुन्ने ग्राहकों की भीड़ अपनी मनपसंद चीजें पाने के लिए उतावले हुए जा रहें हैं। बच्चों के साथ अभिभावकों ने भी इस आयोजन मे आकर अपना अमूल्य समय प्रदान किया। मनोरंजन के लिए कई तरह के खेल जैसे- कप एंड बॉल,लाईटिंग कैंडल, ट्रेजर हाईट,मेमोरी गेम आदि के स्टाल लगाए।

इसके अतिरिक्त डांस, फैंसी ड्रेस, टैलेंट शो,टॉक शो पर भी बच्चों ने बढ़चढ़कर शिरकत की। अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए तथा लोगों मे जागरूकता लाने के उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए  बच्चों ने फैंसी ड्रेस में मदर टेरेसा, पं. नेहरू, भारतीय जवान, पृथ्वी, प्लास्टिक बैग,पानी, दशरथ पुत्र राम, राम भक्त हनुमान,डेटॉल, बिलासा बाई, पेड़ इत्यादि रूप धारण कर पूरे मंच को जीवंत कर दिया। इसके पश्चात दर्शक देशभक्ति के रस मे डूबे, शिव ताडंव से ओतप्रोत हुए, देश के विभिन्न राज्यों के लोकनृत्य का आनंद उठाया और इसके साथ ही जंगल की सैर भी की।

बच्चों का उत्साहवर्धन करने के लिए सभी प्रतिभागियों को विद्यालय की ओर से पुरस्कार भी वितरण किया गया l कार्यक्रम के माध्यम से विद्यालय के द्वारा बच्चों को आर्थिक मूल्य को समझाने का प्रयास किया गया l समय-समय पर विद्यालय के द्वारा अध्ययन के साथ विभिन्न गतिविधियों के आयोजन का उद्देश्य छात्रों का सर्वांगीण विकास है।